News MyLife

Social Media News | IPL 2018 Live Cricket Score

जब आंखे मलते हुए सोबर्स ने 132 रन जड़े…


महान बल्लेबाज़ गैरी सोबर्स का खेल के साथ साथ क्लबों और पार्टियों से भी प्रेम था. इस कदर प्रेम की खेल खत्म होते ही वो घर या होटल के बजाए क्लब का रुख करते थे. मैच से एक रात पहले शराब पीना वह बुरा नहीं मानते थे लेकिन ऐसा करने के बाद सुबह उनका खेल कैसा होता था, यह जानने के लिए ज़रा यह किस्सा पढ़िए.
1968 में वेस्टइंडीज की क्रिकेट टीम आस्ट्रेलिया के दौरे पर थी. महान आलराउंडर गैरी सोबर्स शाम को खेल के बाद किसी महिला मित्र के पास चले गए. सारी रात किसी होटल में उन्होंने साथ काटी. सुबह देर से वापस लौटे. जब तक लौटे टीम होटल से मैदान के लिए रवाना हो चुुकी थी. पैड पहना और कुर्सी पर बैठे बैठे ही सो गए. विकेट जल्दी जल्दी गिरे. सोबर्स का नंबर आ गया. उन्हें जगाया गया. आंखें मलते हुए वह मैदान पहुंचे. पहली ही गेंद उनके बल्ले के बीचों बीच आई. उसके बाद तो उनका बल्ला पूरी तरह गेंदों पर हावी हो गया. 113 मिनट में ही ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करके 132 रन जड़ डाले. आउट होकर वापस लौटते ड्रेसिंग रूम में सो गए.

गारफिल्ड सोबर्स उर्फ गैरी कुछ ऐसे ही थे. रात नशे में चूर रहना और फिर दिन में रनों का पहाड़ खड़ा कर देना. यह हर किसी के बस की बात नहीं है लेकिन गैरी के लिए यह मुमकिन था. इसे विलक्षण प्रतिभा ही कहेंगे कि इस कदर शराब पीने के बाद दिन में उनकी टीम उन्हीं के भरोसे मैच जीत लेती है. बताते हैं कि वर्ष 1958 -59 में सोबर्स जब भारत आए तो रात करीब दो बजे शराब का सेवन करके लौटे. दूसरे दिन पांच घंटे में 198 रन बना डाले.

ऐसा ही कुछ 1973 में भी हुआ था. लार्ड्स में वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के बीच टेस्ट मैच चल रहा था. सोबर्स सारी रात होटल में नहीं थे. मैदान पर खेल खत्म होते ही सोबर्स किसी नाइट क्लब की ओर मुड़ गए थे. सुबह उन्हें जल्दी जगा दिया गया. अगले दिन फिर वही हुआ. मैदान से सीधे किसी शराबघर में. रातभर शराब पी गई. इतनी हो गई कि दोस्तों ने उन्हें मैदान पर छोड़ा. मैच शुरू हो चुका था. उनकी टीम बैटिंग कर रही थी. कन्हाई 157 रन पर थे. इंग्लैंड के तेज गेंदबाज बाब विलिस ने उन्हें कई बार बीट किया. जब कन्हाई आउट होकर लौटे तो सोबर्स बैटिंग के लिए भेजा गया.


सोबर्स का बुरा हाल हो रहा था. हैंगओवर हो चुका था. सिर घूम रहा था. गेंद सही तरीके से दिख नहीं रही थी. पेट में दर्द भी हो रहा था. पर खेलते रहे. शतक तक पहुंच गए. दर्द असहनीय हो चुका था. वापस ड्रेसिंग रूम लौटना पड़ा. ड्रेसिंग रूम में कप्तान कन्हाई ने ब्रांडी मंगाई. उसे पीते ही दर्द ठीक. कई पैग पीने के बाद सोबर्स फिर तैयार. दोबारा क्रीज पर लौटे. 150 रन बनाने के बाद जब आउट हुए तो कन्हाई ने विंडीज की पारी आठ विकेट पर 652 रन पर घोषित कर दी. इंग्लैंड की टीम दोनों पारियों में 233 और 193 रन ही बना सकी. विंडीज ने ये टेस्ट एक पारी और 226 रन से जीत लिया.

ऐसे ही हैं गैरी सोबर्स. वह 81 साल के हो चुके हैं. और बारबडोस में मजे से जीवन से बिता रहे हैं. वह अपने देश की जीती जागती महान हस्ती हैं. दिलचस्प बात यह है कि आज भी वह फिट हैं और शराब को अपने दिल के करीब रखते हैं. हालांकि हमारी राय होगी कि गैरी से कुछ सीखना है तो उनका खेल सीखिए, कुछ और नहीं…
from Latest News क्रिकेट News18 हिंदी https://ift.tt/2HXNhvX

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

News MyLife © 2018 Funny joke